Untitled design 3 1

लोक अदालत में ई-चालान का भुगतान करने वालों की लंबी लाइन देख घबरा जाते हैं लोग

भरत अग्रवाल, चंडीगढ़ दिनभर : कई बार हम गाड़ी या बाइक चलाते समय इतने मशगूल हो जाते हैं कि ये पता ही नहीं चलता है कि कब हमारा ई-चालान कट गया है। चंडीगढ़ ट्रैफिक पुलिस भी स्मार्ट हो गई है और बिना रोके बाइक या कार की फोटो खींच लेते हैं और ऑनलाइन चालान काट देते हैं। वहीं, चंडीगढ़ में जगह-जगह कैमरे और अन्य सेंसर लगा चुके हैं। समय पर चालान जमा नहीं करते हैं तो चालान कोर्ट में चला जाता है। सेक्टर-43 स्थित जिला अदालत में लगने वाली लोक अदालत में ई-चालान का भुगतान करने वालों की लंबी लाइन देख अधिकतर लोग वापस घर लौट आते हैं। क्योंकि उन्हें नहीं पता हैं कि वर्चुअल कोर्ट से घर बैठे ही चालान का निपटारा कर सकते हैं।
चंडीगढ़ दिनभर अपने पाठकों से ई-चालान का वर्चुअल कोर्ट में भुगतान करने संबधित जानकारी पाठकों से सांझा कर रहा है। सेक्टर-43 स्थित जिला न्यायालय में ई-चालान के निपटान के लिए वर्चुअल कोर्ट की स्थापना की गई है। अगर आपका चालान कोर्ट में पहुंच चुका है तो परेशान होने की जरूरत नहीं है। आप वर्चुअल कोर्ट का सहारा ले सकते हैं।
इससे आपको कोर्ट जाने के झंझट से छुटकारा मिलेगा। वर्चुअल कोर्ट में ऑनलाइन डॉक्यूमेंट्स भी दिखा सकते हैं, जिससे चालान की रकम कम भी हो सकती है। यह काफी आसान प्रोसेस है।
स्टेप वन : वर्चुअल कोर्ट की सर्विस का फायदा उठाने के लिए इसकी ऑफिशियल वेबसाइट पर जाना होगा। यहां एक असली कोर्ट होता है , जिसकी पूरी कार्यवाही ऑनलाइन होती हैं। वर्चुअल कोर्ट की वेबसाइट (द्धह्लह्लश्चह्य://1ष्शह्वह्म्ह्लह्य.द्दश1.द्बठ्ठ) पर जाएं। यहां जहां आपका चालान हुआ हैं , उस राज्य को सेलेक्ट करें। इसके बाद प्रोसीड को क्लिक करें ।
स्टेप टू : स्टेप टू में मोबाइल नंबर, चैसी नम्बर (सीएनआर), पार्टी के नाम और चालान या गाड़ी के नंबर दर्ज करके चालान देख सकते हैं। इस प्रक्रिया को पूरा करने के बाद कैप्चा कोड डालकर सबमिट करें, यहां से आप चालान की पेमेंट कर सकते हैं।
वर्चुअल कोर्ट लोक अदालत नहीं होती : आपको लगता है कि बिना किसी गलती के ट्रैफिक पुलिस ने चालान कर दिया है, तो वर्चुअल कोर्ट में इसे चैलेंज कर सकते हैं। कोर्ट में ऑनलाइन डॉक्यूमेंट्स और सबूत देने होंगे। कोर्ट तय करेगा कि चालान माफ होगा या पेमेंट करनी होगी। वर्चुअल कोर्ट, लोक अदालत नहीं होती हैं। लोक अदालत में कोर्ट ही जाना पड़ता है। जब भी चालान कटता है तो जुर्माने की तारीख से 60 दिन बाद ई-चालान वर्चुअल कोर्ट में चला जाता है। चंडीगढ़ की आबादी लगभग 15 लाख है और आधी से ज्यादा आबादी के वर्ष 2023 में ट्रैफिक नियमो की उलंघ्घना करने के कारण चालान हुए थे। चंडीगढ़ पुलिस ने वर्ष 2023 में 7 लाख 95 हजार 960 चालान किए हैं। इन चालान में से 1 लाख 89 हजार 612 चालान ओवरस्पीडिंग के लिए, 4 लाख 53 हजार 272 लाल बत्ती जंप करने के लिए, 1 लाख 29 हजार 838 ज़ेबरा क्रॉसिंग का उगंघन करने के लिए और 23 हजार 238 चालान बिना हेलमेट के दोपहिया वाहन चलाने के लिए जारी किए गए थे। कुल 10.45 करोड़ रुपये का जुर्माना वसूला गया।