Untitled design 5 5

चंडीगढ़। पंजाब विजीलैंस ब्यूरो ने राज्य में भ्रष्टाचार के विरुद्ध चलाई मुहिम के दौरान सब-डिविजऩ कादियाँ, ज़िला गुरदासपुर में काम करते हुए कंवरपाल सिंह (के.पी.) करार नवीस (डीड राईटर) और उसके सहायक को 22,5000 रुपए की रिश्वत की माँग करने और लेने के दोष अधीन गिरफ़्तार किया है। इस सम्बन्धी जानकारी देते हुए राज्य विजीलैंस ब्यूरो के सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि उक्त करार नवीस और उसके निजी सहायक को कुलवंत सिंह निवासी गाँव शेरपुर, तहसील बटाला, ज़िला गुरदासपुर (मौजूदा समय बरतानिया निवासी) द्वारा मुख्यमंत्री भ्रष्टाचार विरोधी एक्शन लाईन पोर्टल पर दर्ज करवाई गई ऑनलाइन शिकायत के आधार पर गिरफ़्तार किया गया है। उन्होंने आगे बताया कि शिकायतकर्ता ने अपनी शिकायत में दोष लगाया है कि उक्त करार नवीस ने उसकी पैतृक ज़मीन की मलकीयत (इंतकाल) उसके नाम करवाने के बदले उससे 22,5000 रुपए की रिश्वत ली थी। उसके दफ़्तर में काम करते हुए टाईपिस्ट सन्नी ने भी उक्त इंतकाल दर्ज करवाने के लिए उससे 70,000 रुपए की माँग की थी। प्रवक्ता ने बताया कि इस शिकायत की जांच के दौरान यह पाया गया कि उक्त करार नवीस ने उक्त शिकायतकर्ता से तीन किश्तों में 22,5000 रुपए की रिश्वत ली है। इसके अलावा उसके निजी सहायक सन्नी ने शिकायतकर्ता से 70,000 रुपए की माँग की थी। जांच के बाद दोनों मुलजिमों को गिरफ़्तार कर लिया गया है और इस मुकदमे में सम्बन्धित हलका पटवारी और नायब तहसीलदार की भूमिका की जांच भी की जायेगी। उन्होंने बताया कि इस सम्बन्धी विजीलैंस ब्यूरो थाना अमृतसर रेंज में भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के अंतर्गत केस दर्ज किया गया है।