Untitled design 22

-नौकरी दिलाने के नाम पर सफाईकर्मियों से ठगी के मामले में गिरफ्त आरोपियों ने उगला सच

-ठेकेदार के बयान पर जेई मनोहर के खिलाफ पुलिस ने केस दर्ज कर लिया

अजीत झा, चंडीगढ़ दिनभर: चंडीगढ़ के सैकड़ों लोगों को नौकरी दिलवाने के मामले में बुधवार रात को पुलिस ने हाॢटकल्चर के जेई को भी गिरफ्तार किया है।
बता दें कि मंगलवार को सैकड़ों की संख्या पीड़ित लोग पुराने सचिवालय की बिल्डिंग के बाहर रोष प्रदर्शन किया था। जांच में सामने आया है कि 800 लोगों से नौकरी दिलाने के नाम पर ठेकेदार सिमल खैरवाल द्वारा 80 हजार से दो लाख तक ठगे गए हैं।
मलोया थाना पुलिस ने शिकायत के आधार पर झामपुर निवासी ठेकेदार सिमल खैरवाल और रोहित के खिलाफ धोखाधड़ी का केस दर्ज किया था। पुलिस ने दोनों को मंगलवार को ही गिरफ्तार भी कर लिया। आरोपियों ने रिमांड के दौरान कई राज उगले। इसके बाद वीरवार को पुलिस ने सिमल खेरवाल की निशानदेही पर पुलिस ने हॉर्टिकल्चर विभाग के जेई मनोहर को भी गिरफ्तार किया है। सूत्रों के अनुसार मामले में कई लोग और भी शामिल हो हो सकते हैं। पुलिस भी मामले की जांच में जुटी है। खैरवाल और एजेंट पुलिस गिरफ्त में है और दो दिन के रिमांड पर है रिमांड के दौरान आरोपी ठेकेदार ने खुलासा किया कि ठगी मामले में निगम के बागवानी विभाग का जेई भी शामिल था। उसकी निशानदेही पर पुलिस ने जेई मनोहर को दबोचा है। पुलिस ने जेई के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।
पुलिस आरोपियों की प्रॉपर्टी की भी करेगी जांच : अब मलोया थाना पुलिस सिमल खेरवाल और उनके रिश्तेदारों की प्रॉपर्टी की जांच भी करेगी। यह पता लगाया जाएगा कि ठगी के करोड़ों रुपए को कहां इनवेस्ट किया गया है।
इसके अलावा बैंक खातों को भी खंगाला जाएगा। पुलिस पता लगाएगी कि कुल कितने लोगों को उसने अपना शिकार बनाया है।
रिमांड के दौरान आरोपियों ने किया खुलासा : मामले में पुलिस ने आरोपी ठेकेदार और उसके एजेंट को गिरफ्तार किया हुआ है। जांच में सामने आया है कि एजेंट के द्वारा ही रुपये का पूरा लेन-देन हुआ है। ठेकेदार खेरवाल ने कबूला की उसने कई सुपरवाइजर रखे थे। सुपरवाइजर ही सफाई कर्मचारियों को काम पर रखते थे और उनसे 80000 रुपये लेकर उसमे से 20000 रुपये काट कर ठेकदार को देते थे। जबकि सूत्रों की माने तो ठेकेदार सुपरवाइजर से नौकरी के नाम पर 2 लाख रुपये लेते थे। वही पीड़ित कर्मचारी लगातर तीन दिन से परेशान है और वह कभी मलोया थाना, चंडीगढ़ पुलिस हेडक्वार्टर, पुराने सचिवालय तो आज सैंकड़ों की संख्या में कर्मचारी सेक्टर 25 स्मशान घाट के साथ लगते ग्राउंड में एकत्रित हुए। इस दौरान कई राजनितिक पार्टिया भी अपनी रोटियां सेकने के लिए इनके पास आकर इन्हे दिलासा दे रहे है की वह उनके साथ है। पीड़ित कर्मचारियों का यह कहना है की हमे इन्साफ मिले या हमारा पैसा हमे दिलवाया जाए।