Untitled design 4 3

सब्जी मंडी में सब्जियों की आवक हुई कम, रसोई का बजट बिगड़ गया

भरत अग्रवाल, चंडीगढ़ दिनभर : जैसे-जैसे गर्मी बढ़ रही है, वैसे ही सब्जियों की कीमतों में भी तेजी आई है।
गर्मी के मौसम होने के कारण आने वाले दिनों में सब्जियों की कीमतों में और तेजी आएगी। आलू, प्याज और टमाटर के दाम बढ़ चुके है। मौसमी नींबू, अदरक, लौकी, तरोई, कद्दू, कटहल भी बीते एक सप्ताह में महंगे हुए। इन दिनों आलू के भाव 30 तो प्याज 50 रुपये प्रति किलोग्राम बिक रहा है। इसका कारण लोकल सब्जियों की आवक मंडियों में कम होना बताया जा रहा है। अब दिगी व हिमाचल से सब्जियों की आवक मंडी में हो रही है। सब्जियों की कम आवक और ट्रांसपोर्ट महंगा होने के कारण सब्जियों के दाम आसमान छू रहे हैं। वहीं दाम बढ़ने से सब्जियों की खरीदारी में भी कमी आई है।
सीजन की सब्जी मंडी में पहाड़ी आलू 40 रुपये व कोल्ड स्टोर के आलू 30 रूपए प्रति किलोग्राम, प्याज 50 रुपये प्रति किलोग्राम, टमाटर 25 रुपये प्रति किलोग्राम, गोभी 50 रुपये प्रति किलोग्राम, भिंडी 40 रुपये प्रति किलोग्राम, करेला 40 रुपये प्रति किलोग्राम, तोरी 50 रुपये प्रति किलोग्राम, टिंडा 60 रुपये प्रति किलोग्राम, शिमला मिर्च 50 रुपये प्रति किलोग्राम, लहसुन 160 रुपये प्रति किलोग्राम, हरी मिर्च 70 रुपये प्रति किलोग्राम तक बिक रहा है। इसके अलावा घीया 40 रुपये प्रति किलोग्राम, पेठा 40 रुपये प्रति किलोग्राम, कद्दू 40 रुपये प्रति किलोग्राम, बंद गोभी 40 रुपये प्रति किलोग्राम, देसी खीरा 30 रुपये प्रति किलोग्राम, चाईनिज खीरा 40 रुपये प्रति किलोग्राम, ककड़ी 40 रुपये प्रति किलोग्राम तक बिक रही है। वहीं, मटर के भाव भी 80 रुपये प्रति किलो तक पहुंच गए हैं।
सब्जी मंडी के विक्रेता राजन गुप्ता ने बताया कि भाव बढ़ने पर सब्जियों की खरीदारी भी कम हुई है। मौसम में बदलाव के साथ ही सब्जियों के दाम आसमान छूने लगे गए हैं। तापमान में बढ़ोतरी के साथ बाजार से सब्जियां कम होने लगी हैं। मंडी में सब्जियों की आवक कम होने से कीमतों में तेजी से उछाल आया है।