Untitled design 3 3

चंडीगढ़: योगी आदित्य नाथ का बुल्डोजर हो या उत्तर प्रदेश में वर्षों से स्थापित गैंगेस्टरों का अंत, यह बाते पंजाब की लोक सभा चुनाव में चर्चा का केंद्र बन रही है। भाजपा के सभी प्रत्याशी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ की मांग कर रहे है।

यह पहला मौका नहीं है जब योगी चर्चा में आए हो। 2022 के विधान सभा चुनाव में भी उनको पंजाब बुलाने को लेकर बड़ी मांग उठी थी। अहम पहलू यह है कि उद्योगपति व व्यापारी वर्ग की तरफ से उठ रही इस मांग को भाजपा भी खूब अच्छी तरह से समझ रही है। क्योंकि पिछले दो-तीन वर्षों में पंजाब में रंगदारी-फिरौती और गैंगेस्टर कल्चर जितना तेजी से बढ़ा है, उसका असर पंजाब के लोगों पर साफ दिखाई दे रहा है।
उत्तर प्रदेश में कानून व्यवस्था में सुधार और औद्योगिक विकास को देखते हुए पंजाब में भी योगी आदित्य नाथ को लाने की मांग बढ़ रही है। योगी 20 मई को चंडीगढ़ में चुनावी रैली को संबोधित करने के लिए आ रहे है। उनके आगमन को देखते हुए पटियला से भाजपा प्रत्याशी परनीत कौर ने भी उनकी रैली की मांग रख दी है।

परनीत कौर जीरकपुर में करवाना चाहती हैं योगी की रैली

परनीत कौर जीरकपुर क्षेत्र में योगी की रैली करवाना चाहती है। चंडीगढ़ के साथ लगता जीरकपुर पंजाब का नया बसा इलाका है। यहां पर उत्तर प्रदेश, बिहार, हरियाणा और हिमाचल प्रदेश की आबादी काफी है। डेराबस्सी विधान सभा क्षेत्र में आते जीरकपुर की आबादी तीन लाख के करीब पहुंच चुकी है। यही कारण है कि परनीत कौर योगी की रैली जीरकपुर में करवाना चाहती है। जाखड़ बताते हैं, पटियाला ही नहीं जालंधर, लुधियाना, अमृतसर आदि लोक सभा क्षेत्र में भी योगी की मांग आ रही है। जिसका मुख्य कारण पंजाब में बिगड़ी कानून व्यवस्था और उत्तर प्रदेश में योगी की वजह से सुधरी कानून व्यवस्था है।