डॉ. तरूण प्रसाद 2023 05 25T101551.074

चंडीगढ़ दिनभर

चंडीगढ़। लोग आजकल ऑनलाइन शॉपिंग करने के चक्कर में ठगी का शिकार हो रहे हैं। ऐसा ही एक मामला सेक्टर-34 थाने के अंतगर्त आया। यश मेहता ने पुलिस को दी शिकायत में बताया कि उसके पास मनोज चौरासिया नाम के व्यक्ति की कॉल आई और कहा कि जयपुर स्थित हमारी मिरेकल टेक्नोलॉजी कंपनी सस्ते इलेक्ट्रिॉनिक का सामान व क प्यूटर सप्लाई करती है। सस्ते प्रोडक्ट खरीदने के लिए यश ने मनोज की कंपनी से आठ लाख रुपए का सामान ऑर्डर कर दिया और एडवांस में तीन लाख रुपए भी भेज दिए। आरोपी ने कहा कि सामान कूरियर के जरिए आप तक पहुंच जाएगा। लेकिन जब सामान नहीं पहुंचा तो उसने कॉल की, पर उठाया नहीं। फिर उसने मामले की शिकायत पुलिस को दी।

सेक्टर-34 थाना पुलिस ने आरोपी चौरासिया के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। यश ने बताया कि किसी अन्य व्यक्ति के साथ ठगी न हो इसलिए उसने आरोपी मनोज चौरासिया का ब्यौरा, फोटो गूगल पर अपलोड कर दिए, जिसके बाद उन्हें कई फोन और मैसेज आने लगे। करीब 46 लोगों ने बताया कि आरोपी ने उनसे भी ठगी की है। ठगी के शिकार लोगों ने एक ग्रुप बनाया, जिसमें लोग अपने साथ हुई ठगी की जानकारी शेयर कर रहे हैं। यश ने बताया कि मामले में आरोपी के साथ एक महिला भी है जो लोगों को अपने झांसे में लेती है।

गुरुग्राम निवासी एक व्यक्ति से की भी ठगी
ग्रुप में सदस्य कपिल जैन ने बताया कि उसकी गुरुग्राम में गणपति ऑर्केड क प्यूटर नाम के शॉप है। वह भी आरोपी के झांसे में आकर 23 दिसंबर को छह लाख का सामान ऑर्डर कर दिया, लेकिन उसे 80 हजार रुपए का सामान मिला। बाकी का नहीं। जब उसने आरोपी को फोन किया तो उसने फोन नहीं उठाया। इसके बाद कपिल ने मामले की शिकायत गुरुग्राम साइबर सेल को दी। साइबर सेल ने आरोपी चौरसिया को गिर तार कर लिया। चौरसिया ने कोर्ट में जमानत भी करवा ली। कपिल ने बताया कि जमानत के समय दिए गए डॉक्यूमेंट की जांच की तो पता चला कि वो फेक हैं। मनोज को फिर से पकडऩे के लिए आदेश गुडग़ांव कोर्ट द्वारा जारी किए गए हैं।

विदेश भेजने के नाम ठगी करने के मामले में तीसरा आरोपी भी काबू
चंडीगढ़।
सेक्टर-37 स्थित प्लेनेट वीजा सॉल्यूशन इमीग्रेशन कंपनी द्वारा विदेश भेजने के नाम पर 22 लोगों को ठगने के मामले में आरोपी प्रीति को थाना-39 पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस मामले में दो आरोपी विपिन कौशल उर्फ कर्ण शर्मा और गुरबंत ङ्क्षसह को पहले ही गिरफ्तार कर चुकी है। आरोपी प्रीति ऑफिस में क्लाइंट को डील करती थी। पुलिस जांच में सामने आया कि प्रीती हरियाणा के सिरसा की रहने वाली है। इसका नाम सालूरानी उर्फ सीरत उर्फ प्रीती है। वो ही हरियाणा के क्लाइंट लाती थी। आरोपी से ऑफिस की चॉबी और एक लैपटॉप बरामद हुआ है। लैपटाप में पूरा रिकॉर्ड है और जितने भी लोगों से ये तीनों आरोपी ठगी कर चुके हैं।