डॉ. तरूण प्रसाद 2023 05 09T103608.163

तिहाड़ जेल में गैंगस्टर टिल्लू की मौत के बाद मॉडल जेल बुड़ैल में भी अलर्ट जारी

चंडीगढ़ दिनभर

चंडीगढ़ दिल्ली की अदालत में गोलीकांड के आरोपी सुनील बालियान उर्फ टिल्लू ताजपुरिया की तिहाड़ जेल में बेरहमी हत्या किए जाने के बाद चंडीगढ़ स्थित मॉडल जेल बुड़ैल जेल में भी हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है। वहीं हरियाणा की 20 जेलों की सुरक्षा भी बढ़ा गई है। जेल में कटलरी पर रोक लगा दी गई है। बुडै़ल जेल मे जो बंबीहा गु्रप और लॉरेंस ग्रुप के गैंगस्टर बंद हैं उन सभी को अलग-अलग बैरक शिफ्ट कर दिया गया है। वहीं, जल्द बुड़ैल जेल बायोमीट्रिक मशीन लगाई जाएगी। ताकि कोई भी कैदी अगर बैरक से बाहर जाता है तो वह बायोमीट्रिक मशीन में कार्ड स्वैप करवाकर ही जाएगा। बुड़ैल जेल में एक बैरक में करीब 150 कैदी व किसी में कम ज्यादा भी होते हैं। कौन सा कैदी क्या कर रहा है उस पर नजर रखने के लिए अब हर बैरक में सीसीटीवी कैमरे लगाने की तैयारी चल रही है।

जल्द सभी बैरक में कैमरे लगेंगे। कई बार मामूली सी बहस खूनी झड़प का रूप ले लेती है। इन्हें रोकने के लिए ही कैमरे लगाएं जा रहे हैं। बता दें कि बुड़ैल जेल में एक बैरक में करीब 150 कैदी हैं और वहां तैनात सिर्फ एक संतरी है। अब वहां पर 5 संतरी की तैनाती करने पर काम चल रहा है। यदि बैरक में कैदियों का आपस में झगड़ा हो जाए तो चार संतरी उन्हें छुड़वाएं और एक जेल स्टाफ को सूचित करे। ताकि स्थिति पर काबू पाया जा सके। वहीं इलेट्रिक शॉकगन भी मंगवाई जा रही है। इसका इस्तेमाल उस समय होता है जब स्थित पर काबू पाना मुश्किल हो रहा है। इलेट्रिक शॉकगन के इस्तेमाल से शख्स कुछ समय के लिए बेहोश जरूर होता है लेकिन कोई नुकसान नहीं है। वहीं प्रवेश द्वार पर अंडर व्हीकल स्कैनिंग सिस्टम लगाया जाएगा। यूवीएसएस चलती हुई कार में छिपे किसी भी बम, हथियार को भी स्कैन कर लेगा। पत्थर या कोई अन्य वस्तु गाड़ी के साथ चिपककर भी जा रही होगी तो यूवीएसएस उसे पकड़ लेगा। गाड़ी का नंबर और ड्राइवर की तस्वीर भी रिकॉर्ड होगी। जेल के गेट के पास गड्ढा खोदकर इसे फिट किया जाएगा। देशभर में पहली बार किसी जेल में यह व्यवस्था की जा रही है। यूवीएसएस लगाने के लिए प्रशासन ने जेल प्रबंधन को मंजूरी दे दी है।

मॉडर्नजेल बनाने की दिशा में काम

जेल में विदेश की तर्ज पर मॉडर्न मुलाकात केबिन और वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कमरा बनेगा। और क्लास रूम बनेंगे, पढऩे के लिए जेल में ब्लैक बोर्ड होंगे और कैदी डिग्री भी जेल से कर सकेंगे। हालांकि, जेल नंबर-1 में भी मॉर्डन मुलाकात कमरे बना दिए गए हैं। बुडै़ल जेल में जेल नंबर-2 में चार से पांच मंजिला के स्तर पर हाई सिक्योरिटी टॉवर लगेगा। इस टॉवर में दफ्तर और लांड्री बनाई जाएगी। सुरक्षा के मद्देनजर टॉवर से पूरी जेल पर नजर रखी जाएगी। जेल में एचडी कैमरे लगाए जाएंगे। बैरक भी हाई सिक्योरिटी होगी, जबकि जेल नंबर एक में पानी की टंकी को ही टॉवर बनाया गया है। कैदियों को रखने की क्षमता दो से तीन साल में खत्म हो जाएगी। अपराध और जनसंख्या बढ़ रही है, जबकि इसके बाद कैदियों को रखने के लिए मुश्किल हो जाएगी। इसलिए जेल नंबर- 2 बनाने की तैयारी की जा रही है। जेल नंबर-2 का नक्शा चीफ आर्किटेक्ट दफ्तर की ओर से बनकर तैयार हो गया है। बुडै़ल जेल में कैदियों की क्षमता को देखते हुए जेल में एक और इमारत बनाई जाएगी।

मॉडल जेल

  • 16 कुल बैरक
  • 1158 कुल कैदी बंद हैं
  • 200 कैमरे लगे हैं वर्तमान में
  • 1 सीआरपीएफ की कंपनी बुड़ैल जेल में है तैनात
  • 8 वाच टॉवर बने हैं जेल में

2022 में जेल में मिले मोबाइल

  • 23 अप्रैल को जेल के पीछे दीवार के पास मिला था बम
  • 12 सितंबर को 12 नंबर सेल की छत से चार मोबाइल, अफीम, गांजा और चरस बरामद हुई
  • फरवरी 2022 को 8 नंबर बैरक से एक मोबाइल फोन, डिजिटल घड़ी, चार्जर, बैटरी, डाटा केबल और बिजली के तार बरामद हुए थे।
  • 2 जून को 9 नंबर सेल से गैंगस्टर मंजीत के पास से मोबाइल मिला था
  • बैरक की शौचालय के नीचे टाइल्स के नीचे से दो मोबाइल और केबल बरामद हुई थी
  • 29 अगस्त को पांच नंबर बैरक से नशा तस्कर से मोबाइल फोन मिला