इ- चाललं

चंडीगढ़ दिनभर । चंडीगढ़ ट्रैफिक पुलिस की ओर से पहले के मुकाबले ई-चालान समेत अन्य वायलेशन के चालानों में काफी बढ़ोतरी हो रही है। वहीं, अब सितंबर 2019 से लेकर फरवरी 2023 तक चंडीगढ़ ट्रैफिक पुलिस ने ई-चालान से 20.36 करोड़ की कमाई की है। इसमें 61 करोड़ ई-चालान से अलावा अन्य चालान के जोड़े गए है। वहीं, पंजाब पुलिस के चालान के मुकाबले 3 गुना चंडीगढ़ पुलिस ने कमाई की है। पंजाब, हरियाणा और हिमाचल प्रदेश जैसे पड़ोसी राज्यों से चालान के मामले में काफी ज्यादा पीछे है। हरियाणा ने एक ओर जहां 997.16 करोड़ रुपए के ट्रैफिक चालान किए। हिमाचल प्रदेश में 319.75 करोड़ रुपए के चालान किए गए। यह खुलासा संसद में दी गई एक डेटा-आधारित जानकारी से हुआ है।
पंजाब में कम चालान होने के पीछे ई-चालानिंग सिस्टम का देरी से लागू होना भी एक कारण है। इससे पंजाब के गैर-टैक्स राजस्व में काफी कमी आ रही है।जानकारी के मुताबिक अभी तक पंजाब पूरी तरह ई-चालानिंग प्रणाली को प्रभावी ढंग से लागू नहीं कर पाया है।ई-चालान हैंड-हेल्ड डिवाइस और सीसीटीवी कैमरों के जरिए होता है।

एक्सीडेंट में मरने वालों का आंकडा भी कम नहीं

2021 की जारी रिपोर्ट में पंजाब में सड़क हादसों और ट्रैफिक हादसों में वर्ष 2021 में 4,589 लोग हादसों में मारे गए थे। 2,032 लोग बुरी तरह घायल हुए थे। राज्य में एक वर्ष में कुल 5,871 हादसे रिकार्ड हुए थे। ओवर स्पीडिंग से हुए हादसों में सबसे ज्यादा 3,276 लोग मारे गए थे। गलत दिशा में ड्राइविंग से 522 लोगों की मौत हुई थी। वहीं इसके अलावा पिछले वर्ष अंतिम तीन महीनों अक्तूबर, नवंबर और दिसंबर के डाटा में सामने आया है कि पंजाब ने ट्रैफिक चालान से 58.97 लाख, 52.48 लाख और 45.48 लाख रुपए की कमाई की है। सरकारी जानकारी के मुताबिक चालान प्रणाली को आधुनिक रूप देने के लिए ट्रांसपोर्ट विभाग नोडल एजेंसी के रूप में काम करता है। रोड से टी फंड के जरिए चालानिंग सिस्टम को मजबूत किया जाना चाहिए।