मेजर डीपी सिंह

चंडीगढ़ दिनभर

चंडीगढ़ सेक्टर 13 रेजिडेंट्स वेलफेयर एसोसिएशन एमएचसी ने वार्षिक दिवस प्री बैसाखी समारोह बड़े उत्साह के साथ मनाया गया। इस मौके पर मेयर अनूप गुप्ता, अध्यक्ष फोसवॉक बलजिंदर सिंह बिट्टू और एरिया पार्षद उपस्थित रहे।
कर्नल गुरसेवक सिंह (पूर्व सैनिक) ने मेयर को भूमिगत पुराने पाइपों में बार-बार रिसाव के कारण शुद्ध पानी की सप्लाई न होना, समय पर सफाई न होना आदि समस्या के बारे में अवगत करवाया। सभी समस्यों का जल्द समाधान करने का मेयर ने आश्वासन दिया। एसोसिएशन के महासचिव एसए कुरैशी ने वार्षिक रिपोर्ट पढ़ी जबकि एसके गौतम ने वित्तीय रिपोर्ट को पड़ा जिसे सदन ने सर्वसम्मति से पारित किया। आरडब्ल्यूए के सदस्य जिन्होंने विभिन्न क्षेत्रों में खुद को प्रतिष्ठित किया है और इस तरह दूसरों के लिए प्रेरणा बने हैं, उन्हें सम्मानित किया गया।
मेजर डीपी सिंह ने 1999 के कारगिल ऑपरेशन के दौरान आपबीती बताते हुए कहा कि वह कारगिल ऑपरेशन में गंभीर रूप से घायल हो गए थे और उन्हें मृत भी घोषित कर दिया गया था। उसके बाद भी सांसे लोट आना किसी चमत्कार से कम नहीं था। इसी दौरान अपना एक पैर भी खो दिया था। धैर्य और दृढ़ संकल्प के साथ मैराथन ब्लेड रनर और स्काई डाइवर के रूप में कई उपलब्धियों से अंतर्राष्ट्रीय गौरव प्राप्त किया और कई राष्ट्रीय पुरस्कार जीते। डॉ मोनिका को भी सम्मानित किया गया। डॉक्टर मोनिका ने डिस्पेंसरी प्रभारी के रूप में कोरोना काल में एमएचसी को पूर्ण टीकाकरण क्षेत्र बनाने की दिशा में काम किया। सीएमए को नई ऊंचाई के स्तर तक लेकर जाने के लिए गुरसिमरन ओबेरॉय को सम्मानित किया गया। गुरुकुल ग्लोबल स्कूल सेक्टर-13 की अध्यक्ष नीना सेत्या को सम्मानित किया गया हैं। दूसरे भाग में आरडब्ल्यूए के उन पदाधिकारियों को सम्मानित किया गया, जिन्होंने पूरी लग्न और निस्वार्थ सेवा के साथ अपने कर्तव्यों का पालन किया। इनमे एसके गौतम वित्त सचिव, महिपाल शर्मा आयोजन सचिव, परमजीत ठाकुर संयुक्त सचिव (पीआर), संदीप सिंह संयुक्त सचिव को सम्मानित किया गया। कार्यक्रम का संचालन महिपाल शर्मा, परमजीत ठाकुर और रजनी महाजन द्वारा किया गया था। इंटर-पार्क प्रतियोगिता में सर्वश्रेष्ठ रखरखाव वाली पार्क रनिंग ट्रॉफी पार्क 5163-5186 ने जीती जबकि उपविजेता ट्रॉफी पार्क 5186-5210 को दी गई। इस अवसर पर मेयर द्वारा आरडब्ल्यूए न्यूजलेटर का विमोचन किया गया।
चंद्रकला गौतम के मार्गदर्शन में आरडब्ल्यूए सदस्यों के बच्चों द्वारा प्रस्तुत बैसाखी थीम पर आधारित सांस्कृतिक कार्यक्रम किया गया। समारोह में 300 से अधिक सदस्यों ने तंबोला का आनंद लिया। यह सब डिनर के साथ समाप्त हुआ। बच्चे को बचाने के दौरान गंवा दिया था पैर : समाराहों में मुकेश और पूनम को भी सम्मानित किया गया। मुकेश ने रेलवे ट्रैक पर एक बच्चे को बचाने के दौरान अपना पैर गंवा दिया। जिसके लिए उन्हें वीरता पुरस्कार मिला। वही. पूनम ने विकलांग होने के बावजूद पैरा-ओलंपिक टेबल टेनिस खेलों में स्वर्ण और रजत पदक जीते थे। पूनम ने अंतरराष्ट्रीय पैरा-ओलंपिक में उत्कृष्ट प्रदर्शन किया था। इसके लिए पूनम को भी सम्मानित किया गया।