डॉ. तरूण प्रसाद 2023 05 17T103830.805

एक लड़की को हरियाणा के पिपली से किया बरामद, दो अब तक लापता, दो चौकीदारों की नौकरी गई

चंडीगढ़ दिनभर

चंडीगढ़ सेक्टर-15 के चिल्ड्रन होम आशियाना से 14 मई की शाम को तीन लड़कियां गायब हो गईं। रात को जब डिनर के लिए अटेंडेंस लगनी शुरू हुई तो स्टाफ को इसकी खबर लगी। इसके बाद आशियाना में हड़कंप मच गया। हेल्पलाइंस की टीम लड़कियों को रातभर ढूंढ़ती रहीं। एक लड़की को हरियाणा के पिपली के पास से बरामद कर लिया गया, लेकिन दो लड़कियां अभी तक लापता हैं। इस कांड ने आशियाना की सुरक्षा व्यवस्था पर सवाल खड़े कर दिए हैं। आशियाने के चारों तक बिल्डिंग पर सीसीटीवी लगे हुए हैं। क्या ये सिर्फ दिखावे के लिए हैं। लड़कियां शाम को खिड़की की ग्रिल खोलकर भागीं तो वहां का सिक्योरिटी स्टाफ क्या कर रहा था? जब वो भागी तो किसी ने उन्हें देखा क्यों नहीं? आखिर लड़कियों के मामले में स्टाफ इतनी लापरवाही कैसे बरत सकता है? आशियाना के प्रबंधन ने इस मामले में सेक्टर-11 थाने में 14 मई को ही शिकायत दे दी थी। पुलिस लापता लड़कियों की छानबीन में जुट गई। डायरेक्टर सोशल वेलफेयर पालिका अरोड़ा ने बताया दो चौकीदारों को नौकरी से निकाल दिया है। जांच जारी है, जिसकी भी लापरवाही सामने आएगी, उसके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी।

ये कैसा आशियाना
आशियाना को करीब 100 लड़कियों के लिए रहने के लिए बनाया गया है। इन लड़कियों की देखभाल के लिए इसमें एक रेजिडेंट मैनेजर, एक वार्डन, 4 से 5 हाउस मदर्स, 2 काउंसलर्स, एक चाइल्ड वेलफेयर ऑफिसर, 2 से 3 चौकीदार नियुक्त किए हुए हैं। इन सभी का काम लड़कियों की देखभाल करना, उनकी काउंसिलिंग करना इत्यादि है। इतना स्टाफ होने के बाद भी लड़कियां भाग गईं? इसको लापरवाही न कहें तो क्या कहें। यहां जो रेजिडेंट मैनेजर हैं वो नोटिस पीरियड पर चल रही है। होम मदर्स, वार्डन और चौकीदारी कहां थे, यह बड़ा सवाल है। लड़कियां दीवार फांदकर भागीं, या फिर गेट से, इनकी नजर क्यों नहीं पड़ी? घटना के वक्त ये सभी लोग कहां थे और क्या कर रहे थे…? अभी दो लड़कियों का कुछ भी पता नहीं चल पाया है। अगर उनके साथ कुछ भी गलत होता है तो उसका जिम्मेदार कौन होगा, ये तय कौन करेगा?

लड़की मर्जी से गई थी: एसपी सिटी
एसपी सिटी मृदुल ने बताया कि जिस लड़की को पिपली (हरियाणा) के पास से बरामद किया गया है, मजिस्ट्रेट के सामने उसके बयान करवाए गए। उसने बताया कि वह अपनी मर्जी से अपने परिवार से मिलने जा रही थी।