Untitled design 2 11

-आखिरकार कौन है 17 रोइंग और कयाकिंग बोट्स का वारिस

जीशान अंसारी, चंडीगढ़: चंडीगढ़ स्पोर्ट्स डिपार्टमेंट ने लेक स्पोर्ट्स कांप्लेक्स में रखी 17 रोइंग/ कयाकिंग/ कैनोइंग बोट्स को जब्त कर लिया है। पिछले कई माह से स्पोर्ट्स कांप्लेक्स के रोइंग एरिया में रखी गईं बोट्स का कोई भी वारिस नहीं है। पंजाब विश्वविद्यालय के एक पत्र के आधार पर इन बोट्स को यहां पर रखा गया था, लेकिन पीयू के स्पोर्ट्स डिपार्टमेंट ने स्पष्ट कर दिया है कि न तो उन्होंने इन बोट्स को लेक स्पोर्टस् कांप्लेक्स में रखवाने के लिए कोई पत्र लिखा था, न ही यह बोट्स पंजाब विश्वविद्यालय की हैं। वहीं, चंडीगढ़ स्पोर्ट्स डिपार्टमेंट ने बोट्स की स्थिति को स्पष्ट करने के लिए पीयू के स्पोर्ट्स डिपार्टमेंट को ही लिखा है। और जल्द जल्द जवाब मांगा है कि आखिरकार ये बोट्स कहां से आईं हैं और किसकी हैं।
किसने लिखवाया लेटर : पंजाब विश्वविद्यालय के स्पोर्ट्स विभाग के एक अधिकारी इस मामले में जांच कर रहे हैं कि आखिरकार पीयू से बोट्स रखवाने के लिए यह लेटर किसने लिखवाया था, जिसे दिखाकर बोट्स यहां रखी गईं। यह जांच की जा रही है कि ये बोट्स कहां से आईं हैं, इसकी डिलीवरी किसने की। बता दें कि लेक स्पोर्ट्स कांप्लेक्स में लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज से यह निकालने का प्रयास किया जा रहा है कि आखिरकार जिस दिन बोट्स आईं, किस वाहन पर लाया गया और कौन यहां लेकर आया। किसने रखवाई। अब फुटेज की जांच होगी।

लेक क्लब में जो बोट्स लाई जाती हैं उसकी मुझको कोई जानकारी नहीं है। खेल विभाग इसका लेखा-जोखा तैयार करता है। यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि किसकी मिलीभगत से उक्त बोट्स को यहां रखा गया है। जांच के दौरान ये मामला सामने आया है, तो इस पर कड़ी कार्रवाई होनी चाहिए।

-राजीव शर्मा, जनरल सेकेट्री, रोइंग एसोसिएशन चंडीगढ़

हमने जो बोट्स जब्त की हैं उनका मामला पंजाब विश्वविद्यालय के संज्ञान में ला दिया गया है। हमने पीयू से जवाब मांगा है। जैसे ही जवाब आता है तो हम आगे की कार्रवाई करेंगे।
-सौरभ अरोड़ा, डायरेक्टर, चंडीगढ़ स्पोर्ट्स डिपार्टमेंट