डॉ. तरूण प्रसाद 2023 06 16T103137.348

केंद्रीय एजेंसियों को मिला इनपुट, बंबीहा-बवाना गैंग के गुर्गे जेल में लॉरेंस पर कर सकते हैं हमला

चंडीगढ़ दिनभर

चंडीगढ़। सलमान खान को जान से मारने की धमकी देने वाले गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई की जान पर तिहाड़ जेल में भी खतरा मंडरा रहा है। केंद्रीय सुरक्षा एजेंसियों को इनपुट मिले कि गैंगस्टर नीरज बवाना और बंबीहा ग्रुप के गुर्गों ने जेल में बिश्नोई की हत्या की पूरी प्लानिंग कर रखी है। कभी भी उसपर हमला किया जा सकता है। तिहाड़ जेल प्रशासन ने इस संबंध में दिल्ली कोर्ट को जानकारी दी। इसके बाद दिल्ली कोर्ट ने आदेश दिए कि लॉरेंस को बठिंडा जेल शिफ्ट किया जाए। उसके ऊपर पंजाब में काफी केस दर्ज हैं। उसे वहां केस खत्म होने तक रखा जाए। अगर किसी और कोर्ट में सुनवाई होनी होगी तो वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से की जाएगी। गौरतलब है कि लॉरेंस को गुजरात पुलिस पूछताछ के लिए प्रोडक्शन वारंट पर बठिंडा जेल से लेकर गई थी।

वहां वो साबरमती जेल में था। क्राइम ब्रांच उसे 11 जून को ही तिहाड़ जेल लेकर आई थी और उसकी पुलिस कस्टडी चार दिन बढ़ा दी थी। इसके बाद जब कोर्ट में लॉरेंस को पेश किया गया तो जेल प्रशासन ने लॉरेंस की सुरक्षा को लेकर असमर्थता जताई और उसे पंजाब शिफ्ट करने की मांग की। इसके बाद रातोंरात हवाई जहाज से उसे बठिंडा जेल शिफ्ट कर दिया गया। गौरतलब है कि पिछले दिनों गैंगस्टर टिल्लू ताजपुरिया को तिहाड़ जेल में उसके विरोधी गैंग के गुर्गों ने मार डाला था। तभी से लॉरेंस पर जेल में हमले का खतरा बना हुआ है। बंबीहा व नीरज बवाना ग्रुप और लॉरेंस ग्रुप के बीच काफी समय से टकराव चल रहा है। दोनों की तरफ से एक दूसरे के ग्रुप मेंबरों की हत्या भी की जा चुकी है।

कोर्ट में दी अर्जी में कानून व्यवस्था बिगडऩे का हवाला
दिल्ली की तिहाड़ जेल में गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई की जान को खतरा बताते हुए दिल्ली पुलिस द्वारा जो कोर्ट में अर्जी दी गई उसमें कानून व्यवस्था बिगडऩे का हवाला दिया गया है। बताया गया कि लॉरेंस को बठिंडा जेल से ही पहले एनआईए ने पुलिस रिमांड पर लिया था। उसके बाद गुजरात पुलिस ने और अब दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच ने कस्टडी में लिया हुआ है। लिहाजा जिस जेल से एजेंसियों ने लॉरेंस को कस्टडी में लिया था, सीधा उसी जेल में भेजा जाए, न कि दिल्ली की जेल में।

मालूम हो कि दिल्ली क्राइम ब्रांच में दर्ज एक मामले में लॉरेंस को मई के आखिरी सप्ताह में ही कस्टडी में लेकर आई थी। इसके बाद उससे पूछताछ करने के लिए उसे दिल्ली कोर्ट में पेश किया गया जहां से उसे पुलिस रिमांड पर भेज दिया गया। रिमांड के दौरान लॉरेंस से पूछताछ करने के बाद उसे रिमांड खत्म होने पर कोर्ट पेश किया गया जहां से उसे 11 जून को न्याायिक हिरासत में भेज दिया गया।