डॉ. तरूण प्रसाद 10

नाके के दौरान आरोपी से 10 ग्राम हेरोइन बरामद, मामला दर्ज

चंडीगढ़ दिनभर

चंडीगढ़। पिछले 9 साल से थानेदार पिता कुलदीप सिंह के साथ रहने वाला प्रिंस पहले नशा खरीदकर पीता रहा, जब शादी हुई तो बेचने भी लगा। ऐसा नहीं कि पिता को कभी इसका इल्म न हुआ होगा, लेकिन अब जब थाना आईटी पार्क के एसएचओ जसपाल सिंह ने प्रिंस को 10 ग्राम हेरोइन के साथ गिरफ्तार ही कर लिया, तो सिर्फ सब इंस्पेक्टर कुलदीप सिंह की ही नहीं, पूरी यूटी पुलिस की किरकिरी हो रही है। सवाल उठ रहे हैं कि आखिर सब इंस्पेक्टर खुद अपने बच्चे को नशे की लत से बाहर क्यों नहीं निकलवा सका, क्यों उसने समय पर बच्चे को डिएडिक्शन सेंटर में जमा नहीं करवाया।

जीं हां, यूटी पुलिस की वीआईपी सिक्योरिटी में तैनात सब इंस्पेक्टर कुलदीप ङ्क्षसह के बेटे किशनगढ़ निवासी प्रिंस को 10 ग्राम हेरोइन के साथ बुधवार शाम को नाके के दौरान पुलिस ने दबोच लिया। बताया गया कि नाके पर तैनात एसआई दिलावर सिंह ने उसकी तलाशी ली तो उसके पास से 10 ग्राम हेरोइन बरामद हुई। पुलिस ने प्रिंस के खिलाफ एनडीपीएस यानि नारकोटिक्स एक्ट के तहत केस दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया। इसके बाद पुलिस ने उसे कोर्ट में पेश किया, जहां से उसे 1 दिन के पुलिस रिमांड पर भेज दिया।

शादी के बाद खर्चे बढ़े तो बेचने लगा

एसएचओ जसपाल सिंह ने बताया कि प्रिंस ने अपनी पूछताछ में बताया है कि वह वर्ष 2014 से नशा ले रहा था। पहले वह हेरोइन अपने पैसों की खरीदकर पीता था। अब करीब 8 माह पहले जब उसकी शादी हुई, तो घर के खर्चे भी बढ़ गए। अब वह दिल्ली जाता था और नाइजीरियन से हेराइन खरीदकर बेचने लगा था। उसने पुलिस को बताया कि इससे न सिर्फ उसके नशे का खर्चा निकलने लगा, बल्कि वह इससे कुछ पैसे बचाने लगा था। सूत्रों की माने तो कुछ समय पहले ही उसके पिता ने किशनगढ़ में अपना घर खरीदा था और उसे तैयार किया। सूत्रों की माने तो पुलिस उसका भी एनडीपीएस एक्ट की सेक्शन 29 के तहत जांच कर सारा रिकॉर्ड खंगाल रही है।

वहीं रिमांड के दौरान आरोपी के बताए फोन नंबर और नाम से पुलिस दिल्ली से उस नाइजीरियन को भी दबोचने में जुटी है, जोकि मुख्य सप्लायर था। इसके अलावा पुलिस आरोपी के फोन डिटेल के जरिए उन सब नंबरों को खंगाल रही है, जिसके साथ वह कनेक्ट होता था। इसके जरिए पुलिस शहर में नशा बेचने वाले ही नहीं,खरीदने वालों की भी पहचान करने जा रही है। ताकि उनके सब इंस्पेक्टर ने तो चाहे अपने बेटे को नशे की लत से नहीं छुड़वा पाया, लेकिन बाकि लोग अपने बच्चों को नशे की लत से छुड़वा सके। सूत्रों की माने तो पुलिस ने आरोपी प्रिंस की कॉल डिटेल मंगवा ली है।