डॉ. तरूण प्रसाद 2023 05 06T122449.576

सीएम मान के नेतृत्व वाली राज्य सरकार ने मिलावटखोरों के खिलाफ शिकंजा कसा

चंडीगढ़। राज्य निवासियों को पौष्टिक और मिलावट रहित ख़ुराक मुहैया करवाना यकीनी बनाने और मिलावटखोरों के खि़लाफ़ और सख्ती सम्बन्धी मुख्यमंत्री भगवंत मान के दिशा-निर्देशों पर मुख्य सचिव विजय कुमार जंजूआ ने सम्बन्धित पक्षों को सख़्त चौकसी बरतने के आदेश दिए हैं। मुख्य सचिव ने यह बात आज पंजाब सिवल सचिवालय चंडीगढ़ में सुरक्षित भोजन और सेहतमंद ख़ुराक संबंधी राज्य स्तरीय सलाहकार कमेटी की तीसरी मीटिंग की अध्यक्षता करते हुये कही। जंजूआ ने कहा कि मुख्यमंत्री द्वारा सख़्त हिदायतें हैं कि गुणवत्ता और लोगों की सेहत के साथ कोई समझौता न किया जाये और मिलावटखोरों के खि़लाफ़ सख़्त कार्यवाही की जाये।

इसके इलावा मिलावटखोरी रोकने के लिए जागरूकता के साथ चैकिंग, लैब टेस्टिंग आदि कारगर कदम भी उठाए जाएँ क्योंकि यह लोगों की सेहत से जुड़ा मामला है। राज्य सरकार सेहत के मामलों को लेकर बहुत गंभीर है। सब्जियों और फलों को ग़ैर कुदरती तरीकों के साथ पकाने के मामलों को गंभीरता के साथ लेते हुये मुख्य सचिव ने कहा कि इस व्यवहार को रोकने के लिए चैकिंग की जाये। फूड सेफ्टी मोबाइल वाहनों और टेस्टिंग वाली लैबज़ को बढ़ाया जाये। शिक्षा विभाग को निर्देश दिए कि सुबह की प्राथना सभाओं में विद्यार्थियों को मिलावटखोरी संबंधी जागरूक किया जाये और इस सम्बन्धी विद्यार्थियों के मुकाबले भी करवाए जाएँ। खाने-पीने वाले पदार्थों की बिक्री के लिए लायसैंसिंग और रजिस्ट्रेशन लाजि़मी करार देते हुये यह यकीनी बनाया जाये कि कोई भी खाद्य सामग्री बिना इसके न बेची जाये।

जंजूआ ने ख़ाद्य एवं ड्रग प्रबंधन के बुनियादी ढांचे को और मज़बूत करने पर ज़ोर देते हुये स्टाफ की भर्ती, निगरानी टीमों के लिए वाहनों की व्यवस्था और राज्य भर में और नयी लैब स्थापित करने की बात कही। उन्होंने कहा कि चैकिंग टीमों की तरफ से दूध से तैयार होने वाले उत्पादों जैसे कि मक्खन, पनीर और देसी घी की मिलावट करने वालों पर सख्ती करते हुये छापेमारी की जाये। निगरान टीमों की संख्या बधाई जाये। प्रमुख सचिव स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण वी. पी. सिंह ने इट राइट मुहिम के अंतर्गत सरकारी अदारों को विशेष कर मैडीकल कालेज, नरसिंग कॉलेज और अन्य शैक्षिक अदारों को सर्टीफिकेशन करवाने के लिए कहा। ख़ाद्य एवं ड्रग प्रबंधन (एफ. डी. ए.) के कमिश्नर डा. अभिनव त्रिखा ने मुख्य सचिव को फूड सेफ्टी विंग की तरफ से की जा रही गतिविधियों के बारे अवगत करवाया।