डॉ. तरूण प्रसाद 13

मोहाली में खुलेगा रीजन का पहला ह्यूमन मिल्क बैंक, रोटरी क्लब और एम्स में साइन किया गया एमओयू

चंडीगढ़ दिनभर

चंडीगढ़। यदि नवजात की मां फीड नहीं दे पाती हैं तो परेशान होने की जरूरत नहीं। नवजात को फीड मिलेगा ह्यूमन मिल्क बैंक से, जिसकी स्थापना मोहाली के एम्स में किया जाएगा। ह्यूमन मिल्क बैंक का यह प्रोजेक्ट रोटरी क्लब सेक्टर-18 चंडीगढ़ और डॉ. बीआर अंबेडकर स्टेट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज एम्स मोहाली फ़ेज़-6 मोहाली का है। 31 लाख से तैयार होने वाले इस प्रोजेक्ट में रोटरी क्लब चंडीगढ़ सारी मशीनरी उपलब्ध करवाएगा और इसका सारा ऑपरेशनल वर्क डॉ. बीआर अंबेडकर स्टेट इंस्टीट्यूट आफ मेडिकल साइंसेज़ एम्स मोहाली फेज-6 द्वारा किया जाएगा। ह्यूमन मिल्क बैंक के लिए रोटरी क्लब चंडीगढ़ और एम्स के बीच वीरवार को एमओयू साइन किया गया।

एमओयू रोटरी क्लब चंडीगढ़ के प्रेसिडेंट रोटेरियन अनिल चड्ढा और डॉ. बीआर अंबेडकर स्टेट इंस्टीट्यूट आफ मेडिकल साइंसेज़ एम्स मोहाली फ़ेज़-6 मोहाली की प्रिंसिपल और एडमिनिस्ट्रेटर डॉ. भवनीत भारती के बीच किया गया। रोटरी क्लब चंडीगढ़ के प्रेसिडेंट अनिल चड्ढा ने कहा कि कई रिसर्च में यह बात सामने आई है कि नवजात को फीड न मिलने के कारण उनका स्वास्थ्य बचपन से ही बिगड़ जाता है। कई बच्चे गंभीर बीमारियों के शिकार हो जाते हैं। उन्होंने कहा कि इसी वजह से रोटरी क्लब के प्रेसिडेंट के रूप में पदभार ग्रहण करते ही उन्होंने पहला प्रोजेक्ट यही तैयार किया था।

जिसकी अब शुरुआत होने वाली है। इस प्रोजेक्ट में ह्यूमन मिल्क बैंक के लिए सारे इक्युपमेंट और मशीनरी रोटरी क्लब चंडीगढ़ द्वारा उपलब्ध करवाई जाएगी। इसके साथ ही रोटरी क्लब चंडीगढ़ द्वारा इसका प्रचार प्रसार किया जाएगा। ह्यूमन मिल्क बैंक में जांच पड़ताल के बाद महिलाओं के दूध को स्टोर किया जाएगा। इलेक्ट्रिक ब्रेस्ट पंप, लेमिनर फ्लो इक्युपमेंट, प्वाइंट आफ क्येर ट्रूनेट, मामा ब्रेस्ट लेयरडल सप्लाइज, इंफेंट मानिकिन एंड रियल डाल्स जैसे इक्युपमेंट दिए जाएंगे। इस मौक़े पर डॉ. भवनीत भारती ने कहा कि मां के दूध के न मिलने की वजह से कई बच्चों को बचपन से ही बीमारी लग जाती है। यह ह्यूमन मिल्क बैंक ऐसे ही बच्चों के लिए तैयार किया जा रहा है, जिससे बच्चों को स्वस्थ्य जीवन प्रदान किया जा सके। गौरतलब है कि मोहाली की डीसी आशिका जैन को ब्रांड एंबेस्डर बनाया गया है।