Screenshot 40

चंडीगढ़, (अजीत झा)। साइबर थाना पुलिस ने फर्जी काल सेंटर के सहारे लोगों से ठगी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश किया है। यह गिरोह बिहार में पटना के तीन और एक दिल्ली निवासी युवक चला रहे थे। आरोपियों की पहचान बिहार के नवादा जिला निवासी श्रवण कुमार, पटना जिला निवासी बबलू कुमार व गौतम और दिल्ली निवासी शाहिदुल के रूप में हुई। पुलिस ने आरोपियों से 42 मोबाइल और छह सिम बरामद। साइबर थाना पुलिस इंस्पेक्टर रंजीत सिंह ने बताया कि चंडीगढ़ निवासी राजबीर सिंह राय ने साइबर थाना पुलिस को शिकायत दी थी कि 17 अप्रैल 2024 को उसे एक अज्ञात नंबर से फोन आया। फोन करने वाले ने खुद को इंडसइंड क्रेडिट कार्ड कंपनी का कर्मचारी गौरव कुमार बताया। उसने शिकायतकर्ता से कहा कि अगर वह विदेश यात्रा करेगा तो उसके बिल में 7500 रुपये जोड़ दिए जाएंगे। अगर वह यह सेवा बंद करना चाहता है तो बंद करवा सकता है। राजबीर सिंह उस सेवा को बद करवाने के लिए सहमत हो गया। फोन करने वाले ने उसके वाटसएप पर एपीके फाइल भेजी। एप डाउनलोट करने के बाद फोन करने वाले ने शिकायतकर्ता के क्रेडिट कार्ड के सभी जानकारी। राजबीर सिंह ने जानकारियां भर दी। उसके मोबाइल पर खाते से पैसे कटने के तीन मैसेज आए। पहले मैसेज में 49720.30 रुपये, दूसरे मैसेज में 80161.30 रुपये और तीसरे मैसेज में 60880.90 रुपये कटने की सूचना थी। उसके इंडसइंड क्रेडिट कार्ड से कुल 190762 रुपये कट गए। इसके बाद उसने घटना की शिकायत साइबर थाना पुलिस को दी। पुलिस ने केस दर्ज कर मामले की जांच शुरू कर दी थी। शिकायत के आधार पर पुलिस ने टीमों का गठन कर पटना में रेड की और 4 आरोपियों को गिरफ्तार किया।