डॉ. तरूण प्रसाद 51 1

चंडीगढ़ दिनभर

चंडीगढ़। सीआईए व एसटीएफ का अफसर बनकर लोगों को झूठे केस में फंसाने की धमकी देकर उनसे लाखों की ठगी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश किया है। सदर थाना खरड़ पुलिस ने बुधवार को छापा मारकर डिसमिस होमगार्ड बलविंदर और डेंटल डॉक्टर जसविंदर को गिरफ्तार किया। इससे पहले फतेहगढ़ निवासी यादविंदर सिंह, लुधियाना निवासी बलजिंदर सिंह और मोहाली निवासी तरनजीत सिंह को पकडऩे में सफलता पाई थी। इनकी निशानदेही पर ही अन्य दो काबू किए गए हैं। पुलिस ने विभिन्न धाराओं में केस दर्ज कर सभी को कोर्ट में पेश किया।

डॉ. तरूण प्रसाद 52

जहां से उन्हें दो दिन के रिमांड पर भेज दिया गया। आरोपियों को पकडऩे में अहम भूमिका एसएचओ सदर खरड़ जगजीत ङ्क्षसह की रही उनके साथ उनकी टीम में एसआई कुलविदंर सिंह, हवलदार जसपाल ङ्क्षसह और कांस्टेबल गुरप्रीत सिंह थे। पुलिस के हाथ एक सीसीटीवी फुटेज लगी है जिसमें आरोपी एक थार गाड़ी में सवार होकर आते हैं और एक घर के बाहर खड़ी सिल्वर रंग की स्विफ्ट कार के अंदर जबरन घुसते हैं। पुलिस ने बताया कि आरोपी 6 महीने से एरिया में एक्टिव थे और उनके निशाने पर ड्रग सप्लायर या अपराध से जुड़े लोग थे। इन्होंने ऐसे लोगों की लिस्ट बनाई और उनकी रेकी करते। उसे रास्ते में रोकते और उन्हें अपनी पहचान सीआईए व एसटीएफ अधिकारी के तौर पर देते।

केस में फंसाने की धमकी देते तो नशा सप्लायन खुद डरकर ऑफर कर देते की पैसे लेकर छोड़ तो। आरोपी कम से कम एक लाख या जैसी सेटिंग बैठती डील कर लेते थे। पता चलने पर सदर खरड़ एसएचओ जगजीत ने आरोपियों की रैकी करवाई। एसएचओ जगजीत की अगुवाई में एक स्पेशल टीम बनाई गई। एसआई कुलविंदर सिंह, हवलदार जसपाल सिंह और कांस्टेबल गुरप्रीत सिंह थे। सभी सिविल ड्रेस में एयरपोर्ट रोड पर पहुंचे जहां पर आरोपियों ने एक गाड़ी को रोकने प्लानिंग बना रखी थी। जैसे ही आरोपी गाड़ी को रोकने आए पुलिस ने काबू कर लिया।